फायदे और नुकसान

अश्वगंधा के फायदे और नुकसान (benefits and side effects of ashwagandha in hindi)

Pro Ayurved
Written by Pro Ayurved

अश्वगंधा के फायदे और नुकसान (benefits and side effects of ashwagandha in hindi) :
अश्वगंधा एक अविश्वसनीय स्वस्थ औषधीय है जिसे अश्वगंधा, Withania somnifera, जिनसेंग (ginseng), जहरीला करौंदा, या शीतकालीन चेरी (winter cherry) के नाम से जाना जाता है. अश्वगंधा के फायदे बहुत से है, आज हम इस आर्टिकल में ashwagandha क्या है?, अश्वगंधा के फायदे के बारे में देखेंगे.

अश्वगंधा के फायदे और नुकसान (benefits and side effects of ashwagandha in hindi) :


अश्वगंधा क्या है ? (what is ashwaghandha in hindi)

अश्वगंधा एक अविश्वसनीय स्वस्थ औषधीय है जिसे अश्वगंधा, Withania somnifera, जिनसेंग (ginseng), जहरीला करौंदा, या शीतकालीन चेरी (winter cherry) के नाम से जाना जाता है.
इसका पौधा 35-75 cm तक बढ़ता है. ज्यादातर यह भारत, नेपाल, चीन और यमन में उगता है. भारत मे इसे प्राचीन समय से ही एक महत्वपूर्ण औषधि के रूप में उपयोग हो रहा है. कारण है ashwagandha ke fayde.

अश्वगन्धा के लाभ और नुकसान

अश्वगंधा में अश्व मतलब घोड़ा (horse) और गंधा मतलब गंध (smell) है. ashwagandha की जड़ का गंध बिल्कुल घोड़े के पसीने से मिलती है इसीलिए इसे अश्वगंधा का नाम दिया गया है.

आपने सेक्स पावर बढ़ाने वाले औषधीयों में इसका नाम ज़रूर सुने होंगे, पर इसका काम सिर्फ सेक्स पावर बढ़ाना ही नही, बल्कि कई और फायदे है, अश्वगंधा चूर्ण के फायदे और नुकसान जानने के लिए इस आर्टीकल को पूरा पढ़े.

अश्वगंधा के फायदे (benefits of ashwaghandha powder in hindi) :

अश्वगन्धा चुर्ण के फायदे

1. प्राचीन औषधि है अश्वगंधा चूर्ण (ashwaghandha is a Ancient Medicinal Herb) :

अश्वगंधा भारत मे उपयोग होने वाली बहुत पुरानी औषधि है, करीब 3000 सालों से इसे महत्वपूर्ण औषधीय पौधे के रूप में उपयोग किया जा रहा है. अश्वगंधा एक संस्कृत शब्द से बना है जिसका अर्थ घोड़े की गंध है.
इसके जड़ो को सुखाकर बारीक पीसकर चूर्ण बनाया जाता है जिसे औषधि के रूप में उपयोग होता है.
इसका उपयोग गठिया, चिंता, नींद ना आना, सूजन, inflammation, काम शक्ति बढ़ाने, पुरुषों में बांझपन को दूर करने, कैंसर, डायबिटीज जैसे रोगों के रोगोपचार में होता है.

2. अश्वगंधा चूर्ण के फायदे है कामशक्ति बढ़ाना (ashwaghandha increase sex power) :

अश्वगन्धा का यह सबसे महत्वपूर्ण फायदा है, प्राचीन काल से ही इसे सेक्स शक्ति बढ़ाने वाले औषधि में उपयोग हो रहा है, यह चिंता, तनाव और डिप्रेसन को समाप्त कर, विर्य की गुणवत्ता में सुधार लाकर घोड़े जैसे सेक्स पावर देती है. यही कारण है कि आयुर्वेदिक स्टोर या पतंजलि स्टोर में अश्वगन्धा चुर्ण आसानी से मिल जाता है.

3. पुरुषों में बांझपन को दूर और टेस्टोस्टेरोन बढ़ता है अश्वगन्धा (ashwaghandha Boost Testosterone and Increase Fertility) :

पुरुषों में बांझपन का एक कारण है वीर्य का गुणवत्तापूर्ण ना होना, वीर्य में शुक्राणुओं की कमी, या बिल्कुल ना होना. अश्वगन्धा सप्पलीमेंट टेस्टोस्टेरोन लेवल को बढ़ाता है जिससे प्रजनन क्षमता भी बढ़ती है.

एक research से पता चला है कि अश्वगन्धा में पुरुषों के बाँझपन का इलाज करने की शक्ति है.
75 बांझ पुरुषों को 3 महीने तक अश्वगन्धा का सेवन करने कहा गया, उनमे देखा गया कि शुक्राणुओं (sperm) की संख्या बढ़ गयी है. 14% पुरुषों ने अपने पार्टनर को प्रेग्नेंट भी कर लिया.
विर्य की शक्ति बढ़ाने, टेस्टोस्टेरोन होर्मोन के लेवल को बढाने के लिए यह चूर्ण बहुत उपयोगी है. अतः आप इसे उपयोग कर सकते है.

4. कैंसर से बचाव करता है अश्वगन्धा (anti cancer property in ashwaghandha) :

Animal और टेस्ट ट्यूब study से पता चला है कि अश्वगन्धा एपोप्टोसिस को प्रेरित करने में मदद करता है, जिससे कैंसर वाली cells मरता है.

Animal study से पता चलता है कि यह स्तन, फेफड़े, कोलन, मस्तिष्क और डिम्बग्रंथि के कैंसर सहित कई प्रकार के कैंसर का इलाज करने में मदद करता है, कैंसर वाली सेल को मारता है.

एक अध्ययन में, डिम्बग्रंथि ट्यूमर वाले चूहों के एक अध्ययन में
चूहों को अकेले अश्वगंध के साथ इलाज किया गया, उनमे ट्यूमर वृद्धि में 70-80% की कटौती हुईं थीं. हालांकि यह अभी मनुष्यों पर try नही किया गया है.

5. अश्वगन्धा के फायदे है चिंता और तनाव को कम करना (ashwaghandha reduce stress and anxiety) :

अश्वगन्धा का सेवन कैसे और कब करें

अश्वगन्धा में चिंतन और स्ट्रेस को कम करने की एक शानदार क्षमता पाई जाती हैं.

यह तंत्रिका तंत्र में रासायनिक सिग्नल्स को विनियमित करके दिमाग में तनाव वाले पथ को अवरुद्ध (block) करके तनाव को कम करता है.

तनाव वाले 64 लोगों में 60 दिनों के लिए एक अध्ययन में, प्लेसबो (placebo) लेने वाले group में 11% ने चिंता और अनिद्रा में 69% की औसत कमी दर्ज की.

6 week की study में, 88% लोगों ने अश्वगन्धा का सेवन किया, चिंता में कमी की सूचना दी, जो प्लेसबो लेने वालों में से 50% की तुलना में चिंता में कमी आई.

6. मसल्स और ताकत बढ़ाने में मदद करता है अश्वगन्धा (benefits of ashwaghandha for muscles power and strength) :

अश्वगन्धा चुर्ण के फायदे ये भी है कि यह मांशपेशियों के growth में help करता है. जो लोग अच्छी body बनाना चाहते है उन्हें इसका सेवन करना चाहिए.

जो आदमी 750–1,250 mg अश्वगन्धा का सेवन रोज करता है 30 दिन में muscles और strength दोनो बढ़ जाता है.

7. अश्वगन्धा के फायदे दिमाग और memory power पर (ashwaghandha benefits for brain function and memory power) :

Animal और टेस्ट ट्यूब study में पाया गया कि अश्वगन्धा दिमागी और मेमोरी पावर संबंधित समस्याओं को कम करता है.

अश्वगन्धा में एंटीऑक्सीडेंट के गुण भी पाया जाता है जो नर्व सेल्स को हानिकारक कणों से बचाता है.

अश्वगन्धा को प्राचीन काल से ही memory booster के रूप करते आ रहे है. एक study में 50 लोगो को रोज़ 300-500mg अश्वगन्धा चुर्ण (ashwaghandha powder) खिलाया गया उनमे बढ़ते मेमोरी पावर, कार्य प्रदर्शन और काम मे ध्यान देखा गया.

8. दिल के लिए फायदेमंद है अश्वगन्धा (benefits of ashwaghandha powder for heart health) :

अश्वगन्धा दिल की सेहत और हृदय संबंधित रोगों को को ठीक करने में मदद करता है. International Journal of Ayurveda Research के एक अध्ययन से साबित हुआ है कि अश्वगन्धा में दिल की बीमारी जैसे हाई ब्लड प्रेशर, high cholesterol, सीने में दर्द (chest pain) और अन्य heart disease को ठीक करने में बहुत मददगार है.

9. गठिया रोग को करता है ठीक (Ashwaghandha benefits in hindi for Arthritis) :

Benefits of ashwaghandha in hindi

अश्वगंध को दर्द से राहत पाने वाली उत्तम दवाई माना जाता है. यह दर्द संकेतों को दिमाग और स्पाइनल कॉर्ड तक भेजने से रोकने के लिए तंत्रिका तंत्र पर कार्य करता है. इसीलिए कुछ रिसर्चर ने गठिया (Arthritis) के रूपों के इलाज में प्रभावी साबित किया है.

10. यह पूर्णतः सुरक्षित है और आसानी से मिल जाता है :

अश्वगन्धा का सेवन करना सुरक्षित होता है यह इसका सबसे बड़ा फायदा होता है. और साथ ही यह बड़ी आसानी से हर जगह उपलब्ध हो जाता है. आप कही भी इसे मेडिकल स्टोर से खरीद सकते है, पतंजलि अश्वगन्धा के फायदे भी बहुत रहते है तो इसे पतंजलि स्टोर से भी खरीद सकते है.
ऑनलाइन खरीदने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें.

11. अश्वगन्धा और दूध के फायदे (benefits of ashwaghandha powder and milk) :

आयुर्वेद के मुताबिक अश्वगंधा को दूध के साथ लेना बहुत फायदेमंद होता है, दूध के अपने अलग ही फायदे होते है, यह शरीर और दिमाग दोनो के विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है. ऊपर आपने अश्वगन्धा पाउडर के फायदे देख लिए. इसे दूध के साथ सेवन किया जाए तो इन दोनों का फायेदा मिल जाता है. इसी लिए माना गया है कि अश्वगन्धा और दूध के फायदे बहुत है. अश्वगंधा और दूध दोनों ही ओजस के लिए फायदेमंद होते है, दोनों एक दूसरे को ऊर्जा देते हैं. जब कोई व्यक्ति अश्वगन्धा और दूध का एक साथ सेवन करता है, तब उसके शरीर में मौजूद कोई भी रोग दूर हो जाते है. शास्त्रों में भी अश्वगन्धा और दूध के फायदे के बारे में उल्लेख है.

आयुर्वेद के साधु सुश्रुत के अनुसार अश्वगंधा और दूध के साथ सेवन से वत्त दोष से आराम मिलता है.

टीबी जैसी बिमारी के लिए अश्वगंधा और दूध के फायदे बहुत ही चमत्कारी है.

12. बालो और स्किन के लिए अश्वगन्धा के लाभ (ashwaghandha benefits in hindi for hair and skin) :

अश्वगन्धा में एंटीऑक्सिडेंट के गुण के कारण यह स्किन की प्रोब्लेम्स के लिए बहुत लाभकारी है, स्किन प्रॉब्लम जैसे रैशेस, redness, सोरायसिस, सुजन आदि को ठीक करता है. बड़े घावों को जल्दी भरता है. बढ़ती age में होने वाले wrinkes को भी कम करता है.

अश्वगन्धा के लाभ बालों के प्रोब्लेम्स जैसे रूखे बाल, डैमेज बालों के health के लिए बहुत लाभकारी है.
(ise bhi padhe : बालों को स्वस्थ रखने और देखभाल के घरेलू नुस्खे (hair care tips in Hindi))

अश्वगन्धा के नुकसान (side effects of ashwaghandha in hindi) :

अश्वगन्धा के ज्यादा कुछ नुकसान नही है पर भी कुछ बातें है जिसे जानना ज़रूरी है जैसे :

प्रेग्नेंट महिलाओं को अश्वगन्धा का सेवन करने नही देना चाहिए क्योंकि इससे गर्भ गिर सकता है, या समय से पहले ही डिलीवरी हो सकता है.

ओवरडोज़ से बचे, नही तो पेट दर्द, उल्टी, दस्त आदि समस्याएं पैदा हो सकती है.

अगर आप पहले से कुछ दवाइयों का सेवन कर रहे है तो अश्वगन्धा के सेवन से पहले डॉक्टर से बात करें, क्योंकि अश्वगन्धा दवाई की क्रिया को बढ़ा या कम कर सकता है. जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है.

अश्वगन्धा का सेवन कैसे करें (how to take ashwaghandha powder) :

कुछ लोगो के मन मे सवाल रहता है कि अश्वगन्धा का सेवन कैसे करें, अश्वगन्धा का सेवन कब करें आदि.

  • अश्वगन्धा के सेवन करने की मात्रा उम्र, वजन के हिसाब से अलग अलग होता है पर फिर भी 400-500mg रोज़ एक से दो बार खाया जा सकता है.
  • सोने से पहले अश्वगन्धा चुर्ण को गर्म दूध में मिलाकर पिये.

  • अश्वगंधा की चाय बनाएं और पियें
    • अश्वगंधा की चाय बनाने के लिए आधा ग्लास पानी और आधा ग्लास दूध एक बर्तन में लें. इसमें एक ग्राम अश्वगंधा चूर्ण डालें और इसे उबाल लें. इसमें suger मिला लें और इसका सेवन पियें.
  • आजकल बाजार में अश्वगन्धा के कैप्सूल भी मिल जाते है. अश्वगन्धा कैप्सूल के फायदे ये है कि इसे इस्तेमाल करना बहुत आसान है.
  • अश्वगंधा कैप्सूल का सेवन कैसे करे : अश्वगंधा कैप्सूल का सेवन कैसे करे यह कोई बहुत बड़ा सवाल नही, आप 1 से 2 कैप्सूल रोज़ 2 बार खा सकते है. अश्वगंधा कैप्सूल का सेवन दूध के साथ करे तो ज्यादा बेहतर है.

    तो पाठको अश्वगंधा के फायदे और नुकसान (benefits and side effects of ashwagandha in hindi) यह आर्टीकल कैसा लगा ज़रूर बतायें.
    आगे आने वाली लेख के updates पाने के लिए ईमेल पर सब्सक्राइब कर ले या हमारा फेसबुक पेज लाइक कर ले ताकि नोटिफिकेशन आप तक पहुच जाए. साथ ही पोस्ट को फेसबुक व्हाट्सएप्प में शेयर करना ना भूले. धन्यवाद

    इनके भी फायदे नुकसान पढ़े :

    नींबू | Aloe vera | Rooh afza | मुल्तानी मिट्टी | कलौंजी | ब्लैक बीन | अलसी

    About the author

    Pro Ayurved

    Pro Ayurved

    Leave a Comment