Chia seeds in hindi चिया सीड के फायदे और नुकसान, nutrients and uses:
चिया सीड (chia seed) एक अलग प्रकार के प्रजाति के तुलसी के पौधों का बीज (Salvia hispanica) होता है जो काले तथा भूरे रंग में होता. यह बीज बहुत ही छोटा होता है पर अत्यंत लाभकारी होता है. चिया सीड में बहुत से ऐसे पोषक तत्व पाया जाता है जो चीन सीड को बहुत ही लाभकारी बना देता है.

इस आर्टिकल में हम चिया सीड क्या है? चिया सीड्स के फायदे और नुकसान, इसमें मौजूद पोषक तत्व आदि के बारे में जानेंगे.

Table of Contents

Chia seeds in hindi चिया सीड के फायदे और नुकसान, nutrients and uses


चिया सीड्स क्या है (what is Chia seeds in hindi)

चिया सीड (chia seeds) तुलसी की प्रजाति का पौधा होता है पर यह मिंट की तरह होता है इसी के बीजों को चिया सीड के नाम से जाना जाता है.

बहुत से लोग इसे सब्जा या तुलसी के रूप में जानते है पर असल मे यह तुलसी नही होता है. यह बिल्कुल तुलसी की तरह दिखाई देने वाले पौधें Salvia hispanica का बीज होता है जो भूरे या काले रंग में होता है साथ ही इसमें सफेद रंग में स्पॉट होता है. Chia seeds की लंबाई 2-2.5 mm, मोटाई 1 मिलीमीटर तक होता है.

21वीं सदी में chia seed का उपयोग बहुत किया जा रहा है इससे पहले इसके बारे में लोगो को ज्यादा जानकारी नही थी. चिया सीड भारत मे कही नही पाई जाती, मेक्सिको, ग्वाटेमाला, बोलीविया, अर्जेंटीना, इक्वेडोर और ऑस्ट्रेलिया में इसकी खेती की जाती है.

चिया के बीज का हिंदी नाम : चिया बीज का हिंदी नाम चिया ही है पर इसके कही कही सब्जा के नाम से जाना जाता है. बहुत से लोग इसे तुलसी भी कहते है पर यह गलत है यह तुलसी से बहुत अलग है.

चिया सीड बहुत से गुणों से भरपूर है chia seeds ke fayde aur nuksan के बारे में जानने से पहले हम इसमें मौजूद पोषक तत्वों को जान लेते है.

चिया सीड में मौजूद पोषक तत्व (nutrition of chia seeds in hindi)

br
Chia seeds में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फैटी एसिड, आयरन, पोटैशियम इत्यादि पाया जाता है जो बहुत ही फायदेमंद होता है, इसमें daily value से 20% ज्यादा विटामिन B होता है.
इसमें और बहुत से पोषक तत्व शामिल है जैसे :

    – पानी : 6%
    – कार्बोहाइड्रेट : 42%
    – प्रोटीन : 16%
    – फैट : 31%
    – Calcium: 18% of the RDI.
    – Manganese: 30% of the RDI.
    – Magnesium: 30% of the RDI.
    – Phosphorus: 27% of the RDI.



A one-ounce (28 grams) के सर्विंग में मौजूद पोषक तत्व :
फाइबर (Fiber) : 11 grams.
प्रोटीन (Protein) : 4 grams.
फैट (Fat): 9 grams (5 of which are omega-3s).
कैल्शियम (Calcium): 18% of the RDI.
मैगनीज़ (Manganese): 30% of the RDI.
मैग्नेशियम (Magnesium): 30% of the RDI.
फॉस्फोरस (Phosphorus): 27% of the RDI.
इसमें जिंक, विटामिन B3, पोटैशियम, विटामिन B1 और विटामिन B3 भी रहती है.


इसमें 31% फैट रहता है जिसमें omega-3 fatty acids मुख्य रहता हैं, इसमें 25–30% निकालने योग्य तेल होता है जिसमे extractable α-linolenic acid मुख्य रहता है. 55% ω-3, 18% ω-6, 6% ω-9, and 10% saturated fat होता है.

ये तो बात रही chia seed में मौजूद पोषक तत्व की, अब बात करते है इसके फायदे और नुकसान के बारे में


  • high blood pressure क्या है, कारण, लक्षण और bp कम करने के आयुर्वेदिक उपचार
  • नेत्रदान कैसे करे? कौन कर सकता है नेत्रदान पूरी जानकारी हिंदी में
  • How to increase sex stamina in hindi ( सेक्स पावर बिना मेडीसिन के)
  • Gastric problem and solution tips in hinid (पेट की गैस दूर करने के घरेलू उपाय)

    चिया सीड के फायदे | benefits of chia seeds in hindi


    1. वजन घटाने के लिए चिया सीड (chia seeds for weight loss) :

    आजकल बहुत से लोग मोटापे का शिकार है भारी भरकम वजन चर्बी से भरा शरीर देखने में तो गंदा लगता ही है साथ ही बहुत सी बीमारियों का घर भी बन जाता है. मोटापा अपने साथ बहुत से लोगो को लाती है जैसे ब्लड प्रेशर, सुगर, दिल की बीमारियां इत्यादि इसलिए वजन घटा कर शारिरिक वजन संतुलित रखना आवश्यक होता है.

    वजन कम करने के लिए तुलसी की प्रजाति का यह बीज बहुत सहायक होते हैं, इनका इस्तेमाल भोजन में करने से भोजन की खपत में कमी आती है. चिया सीड पानी की बड़ी मात्रा को अवशोषित कर लेता है जिससे जेल की तरह पदार्थ बन जाता है और जब आप इसका सेवन है तो पेट में जाने के बाद ये विस्तार करने लगता है जिससे पेट भरा भरा लगने लगता है. चिता सीड बहुत कम कैलोरी के साथ पोषक तत्वों की कमी को पूरा करता है. यह वजन घटाने वालो के लिए एक अच्छा आहार हो सकता है.

    मोटापा दूर करने के उपाय

    chia for Weight loss

    (Read More : Weight loss tips in hindi वजन घटाने के घरेलू उपाय)

    2. फाइबर से भरपूर है चिया बीज (rich in fibre) :

    संयुक्त राज्य अमेरिका (U.S.) के आहार दिशानिर्देशों (dietry guideline) से पता चलता है कि 50 वर्ष से कम उम्र के पुरुषों को प्रति दिन 30.8 ग्राम फाइबर का सेवन करना चाहिए और 50 साल से कम उम्र के महिलाओं को प्रति दिन 25.2 ग्राम का उपयोग करना चाहिए.

    50 वर्ष से अधिक उम्र के वयस्कों के लिए, पुरुषों के लिए प्रति दिन 28 ग्राम है, और महिलाओं के लिए प्रति दिन 22.4 ग्राम है. पर अधिकांश लोग उस recommeneded मात्रा के आधे से भी कम उपभोग करते हैं.

    फाइबर सेवन बढ़ाने का सबसे आसान तरीका फल, सब्जियां, नट, बीज और अनप्रचारित अनाज जैसे पौधे आधारित खाद्य पदार्थों का सेवन होता हैं. चिया के बीज के केवल एक औंस यानी 10 ग्राम फाइबर प्रदान करता है.

    3. एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होता है चिया सीड (chia seeds loaded with antioxidents) :

    चिया बीज एंटीऑक्सिडेंट के गुण से भरपूर होता है, सबसे पहले तो इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण बीज में मौजूद फायदेमंद वसा को वासित होने से बचाता है.

    दूसरी ओर मौजूद एंटीऑक्सिडेंट गुण शरीर की कोशिकाओं के लिए फायदेमंद होता है, तरंगों, रेडिकल्स, बुढापे (wrinkles) से त्वचा की रक्षा करता है, कैंसर रोगियों को भी इसका इस्तेमाल करना चाहिए क्योंकि चिया बीज में antioxidents के कारण कैंसर से लड़ने में मदद करता है.

    4. डायबिटीज डाइट प्लान में चिया बीज का उपयोग (chia seeds for diabetes in hindi) :

    हाई फाइबर युक्त भोजन डायबिटीज के लिए उत्तम होता है. उच्च-फाइबर आहार मधुमेह के विकास के जोखिम को कम करता हैं, उच्च-फाइबर भोजन खाने से रक्त शर्करा (blood suger) को स्थिर रखने में मदद मिलती है.

    National Institute of Medicine ने पाया है कि हर 1000 कैलोरी वाले आहार के साथ 14 ग्राम फाइबर दिल से सम्बंधित रोगों को दूर करता है साथ ही टाइप 2 डायबिटीज को भी स्थिर रखता है.

    5. पाचन शक्ति को बढ़ाता है चिया सीड (pachan skati badhane ke upaye me chia seeds in hindi) :

    पर्याप्त फाइबर वाले आहार का सेवन कब्ज को रोकता है और एक स्वस्थ पाचन तंत्र के लिए नियमितता को बढ़ावा देता है.
    इसके सेवन से पाचन शक्ति मजबूत होती है साथ ही
    मल के माध्यम से विषाक्त पदार्थों को उत्सर्जित करने में मदद करता है.

    6. दिल की बीमारियों को दूर करने में फायदेमंद होता है चिया बीज (chia seeds for heart disease in hindi) :

    चिया बीज फायदेमंद फैट से भरा होता है जिसे ओमेगा 3 फैटी एसिड कहते है. अनुसंधान से पता चलता है कि ओमेगा -3 thrombosis और arrhythmias, दिल का दौरा, स्ट्रोक और अचानक हृदय की मौत आदि से सुरक्षित करता है.

    शरीर मे जमा हुए खराब कोलेस्ट्रॉल (LDL) को निकलता है जिससे हृदय स्वस्थ रहता है और blood preesure भी कंट्रोल में रहता है.

    Plant based ओमेगा-3 देने वाला सोर्स अखरोट (walnut), चिया बीज, फ्लैक्स सीड, hempseed इत्यादि है जो ओमेगा 3 फैटी एसिड से भरपूर होता है.

    Chia beeh for healthy heart

    7. हड्डियों को मजबूत बनाने और ग्रोथ के लिए चिया बीज का उपयोग (chia beej bone ke liye) :

    चिया बीज में बहुत से ऐसे पोषक तत्व होते है जैसे कैल्शियम (calcium), फॉस्फोरस (phosphorus), मैग्नेशियम (magnesium) और प्रोटीन (protein) जो हड्डियों की मजबूती, उनके ग्रोथ और दांतो के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभप्रद होता है.

    28 ग्राम चिया सीड में लगभग 18% कैल्शियम होता है जो किसी अन्य डाइट आहार से ज्यादा है साथ ही फॉस्फोरस, मैग्नेशियम और प्रोटीन भी पर्याप्त मात्रा में होती है जो हड्डियों के हेल्थ के लिए बहुत ही लाभदायक है.

    8. सूजन कम करने में सहायक है चिया बीज सेवन (chia seeds for Chronic Inflammation) :

    सूजन आपके शरीर में किसी संक्रमण या चोट के कारण उत्पन्न हो जाता है, लाल और सूजी हुई त्वचा inflammation का एक उदाहरण है.

    हालांकि सूजन आपके शरीर को ठीक (heal) करने में मदद करती है और बैक्टीरिया, वायरस और अन्य संक्रमणों से लड़ने में मदद करती है, पर यह कभी-कभी नुकसानदेह हो सकता है. लंबे समय से हुए सूजन (chronic inflammation) जो हृदय रोग और कैंसर के बढ़ते जोखिम से जुड़ा हुआ है.

    3 महीने से हुए एक अध्ययन के अनुसार 20 लोगों को रोज़ 37 ग्राम चिया बीज का सेवन कराया गया, उनमे 40% तक hs-CRP सूजन में कमी दिखाई दी. हालांकि अन्य study में इसे डिटेक्ट कर पाने में असफल हो गए.

    सीमित सबूत बताते हैं कि चिया के बीज खाने से सूजन मार्कर को कम किया जा सकता है जिसे hs-CRP कहा जाता है. हालांकि, स्वास्थ्य लाभ अनिश्चित हैं और अन्य अध्ययन की आवश्यकता है.

    9. कैंसर से लड़ने में सहायक है चिया के बीज (chia seeds for fight cancer in hindi) :

    चिया बीज में alpha-linolenic acid (ALA) जो एक तरह का ओमेगा 3 फैटी एसिड है पाया जाता है. 2013 में Journal of Molecular Biochemistry ने पाया कि alpha-linolenic acid (ALA) स्तन कैंसर और ग्रीवा कैंसर के सेल को बढ़ने से रोकता है.

    साथ ही इस study में ये भी पाया गया कि ALA हेल्थी कोशिकाओं को बिना नुकसान पहुँचाये कैंसर सेल को मारता है. इसलिए इसे महिलाओं के लिए उत्तम माना गया है क्योंकि ब्रैस्ट कैंसर से जोखिम को काफी हद तक कम कर देता है.

    चिया बीज के फायदे और नुकसान

    Skin cancer from sun damage.


  • How to get pregnant in Hindi जल्दी प्रेग्नेंट होने के टिप्स
  • Hair fall solution in hindi (झड़ते बाल रोकने के घरेलू उपाय)
  • यूरिन इन्फेक्शन क्या है? लक्षण, कारण और आयुर्वेदिक इलाज (urine infection in hindi)
  • सोरायसिस क्या है, लक्षण,कारण और इसे दूर करने के घरेलू उपाय- psoriasis treatment in hindi

    चिया बीज के नुकसान (चिया के साइड इफेक्ट्स)

    स्वास्थ्यवर्धक इस बीज का अधिक सेवन नुकसान भी पहुँचा सकता है कुछ साइड इफेक्ट नीचे दिए गए हैं:

    1. इसका अत्यधिक सेवन डियारिया पैदा कर सकता है क्योंकि इसके सेवन से मल (stool) पतला हो जाता है.

    Side effects of chia seeds in hindi

    2. चिया के बीज अपने वजन के लगभग 27 गुना वजन का पानी आसानी से सोख लेता है जिससे डियारिया भी सकती है.

    3. ब्लड प्रेशर लो हो सकता है.

    4. प्रेग्नेंट महिलाओं के सेवन में कोई खतरा नही है पर 8-9 महीने वाली प्रेग्नेंट महिलाओं को सेवन नही करना चाहिए.

    5. चिया बीज से एलर्जी हो सकता है, जिसमें चकत्ते, पित्त और आंखों में पानी आदि शामिल हो सकती हैं. खाद्य पदार्थ एलर्जी (Food allergies) में : श्वास, उल्टी, दस्त, और जीभ की सूजन भी हो सकती है.

    तो ये थे चिया सीड्स के साइड इफेक्ट (चिया बीज के नुकसान)
    अब देखते है इसे खाने की विधि के बारे में.

    चिया बीज कैसे खाये (चिया सीड्स के सेवन करने की विधि)

    चिया बीज के सेवन करने के तरीके बहुत से है. जिसमे मुख्यतः भिगोकर, पीसकर और नींबू के साथ खाया जाता है. कही कही चिया बीज की रेसिपी (chia seeds recipe) और सलाद में भी बनाई/उपयोग की जाती है.

    1. चिया बीज को भिगोकर खाएं / चिया बीज का जेल कैसे बनाये?

  • 1/3 कप चिया के बीज
  • 2 कप पानी

    एक बर्तन में दोनों को डालकर 1-2 घंटो के लिए रहने दे. या फ्रिज में रखें या बाहर में ही रहने दे.
    2 घंटो बाद इसका सेवन करें.

    2. चिया बीज को पीस कर सेवन करें :

    थोड़ी मात्रा में chia seeds लेकर उसे पीसकर सेवन करें.

    पर याद रखें कि इसे भिगोकर खाना बेहतर माना जाता है क्योंकि यह अपने वजन से 27 गुना ज्यादा पानी को सोख लेता है तो यह अंदर जाकर पेट मे मौजूद पानी को सोख सकता है. हालांकि इससे कोई साइड इफ़ेक्ट तो नही है पर भिगोकर खाना ज्यादा बेहतर होगा.

    चिया बीज से संबंधित सवाल और इसके जवाब (FAQ about chia seeds in hindi)



    प्रश्न : क्या चिया बीज के सेवन से वजन कम होता है? Can chia seeds make you lose weight?
    उत्तर : हां, चिया के बीज में पानी को सोखने का गुण होता है, इसके सेवन से पेट भरा लगता है जिससे खाने की इच्छा में कमी आती है जो वजन कम करने में काफी सहायक है.

    प्रश्न : क्या chia seeds को सुखा खाना ठीक है?
    उत्तर : नही, highly recommende है कि इसे भिगोकर या रेसिपी बना कर खाएं, सूखे बीजों का सेवन करने से पेट मे मौजूद पानी को यह बीज सोख लेगा. इसलिए इसे पहले से ही ज़रूरत भर पानी दे दें.

    प्रश्न : क्या गर्भवती महिलाएं चिया सीड्स का सेवन कर सकती है?
    उत्तर : हां, प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए कोई नुकसानदेह नही है. पर प्रेगनेंसी के 8-9 महीने वाली महिलाओं को इसका सेवन न कराएं.

    प्रश्न : चिया बीज के सेवन करने का सही तरीका क्या है
    उत्तर : चिया बीज के सेवन करने का सही तरीका यही है कि इसे पानी मे भिगोकर खाएं.

    प्रश्न : चिया सीड्स को पानी के अलावा और किससे भिगो सकते है?
    उत्तर : इसकी थोड़ी सी मात्रा को नारियल तेल, बादाम तेल में भी भिगो सकते है. आपका पसंदीदा जूस, दही, या सूप में भी भिगो सकते है.

    प्रश्न : चिया के बीज का हिंदी नाम/ भारतीय नाम क्या है
    उत्तर : इसे चिया बीज ही कहा जाता है, सब्जा के नाम से भी जाना जाता है.

    प्रश्न : चिया बीज के साइड इफेक्ट्स होने पर क्या करें
    उत्तर : चिया बीज के गलत सेवन और ज्यादा मात्रा में सेवन से डियारिया, लो ब्लड प्रेशर के कारण चक्कर या एलर्जी हो सकती है ऐसी परिस्थितियों में तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें.

    चिया के फायदे और नुकसान के बारे में आप जान गए. यह अर्टिकल Chia seeds in hindi चिया सीड के फायदे और नुकसान, nutrients and uses कैसा लगा यह ज़रूर बतायें. मन मे कोई सवाल हो तो कमेन्ट करके पूछ सकते है.

    आगे आने वाली लेख के updates पाने के लिए ईमेल पर सब्सक्राइब कर ले या हमारा फेसबुक पेज लाइक कर ले ताकि नोटिफिकेशन आप तक पहुच जाए. साथ ही पोस्ट को फेसबुक व्हाट्सएप्प में शेयर करना ना भूले. धन्यवाद

    इनके भी फायदे नुकसान पढ़े :

    नींबू | Aloe vera | Rooh afza | मुल्तानी मिट्टी | कलौंजी | ब्लैक बीन | अलसी | अरंडी तेल | अश्वगंधा | Oats

  • Leave a Comment