Gastric problem and solution tips in hinid (पेट की गैस दूर करने के घरेलू उपाय) :
पेट मे गैस बनना खराब पाचन शक्ति की पहचान है. आजकल की lifestyle रहन सहन व खान पान जैसे जंक फूड कई तरह की बीमारियों को जन्म दे रहा है जिसमे गैस की प्रॉब्लम की भी एक है. आज दुनिया मे हर तीसरा आदमी इस बीमारी से ग्रसित है. स्वस्थ आदमी भी इसका शिकार है और अपने आप को अस्वस्थ feel करता है. Gas की यह problem दिनों दिन बढ़ते जा रही है, चूँकि यह पेट से सम्बंधित बीमारी है तो इससे अनेकों रोग होने की संभावना बढ़ जाती है. इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि Acidity क्या है? इसके कारण, लक्षण और गैस दूर करने के घरेलू उपाय के बारे में.

Gastric problem and solution tips in hinid (पेट की गैस दूर करने के घरेलू उपाय)



पहले बात करते है Acidity के बारे में

एसिडिटी क्या है (what is acidity in hindi) ?

खाने को पचाने के लिए हमारे पेट मे natural acid होता है जिसे हैड्रोक्लोरिक एसिड (hydrochloric acid) या HCl कहते है. इसका nature अम्लीय होता है जिससे भोजन के पाचन में मदद मिलती है अगर इस एसिड की मात्रा या level बढ़ जाये तो acidic problem आती है. जिससे खट्टी डकार, गैस इत्यादि जन्म लेता है. Acidic level बढ़ने कारण है अत्यधिक शराब पीना, पानी कम पीना, या अम्लीय पदार्थो का ज्यादा सेवन है.

पेट में गैस क्यों बनती है

पेट मे गैस बनने के कारण (causes of gastric problem in hindi) :

पेट मे गैस बनने के कई कारण हो सकते है जिसमे lifestyle महत्वपूर्ण है. गैस बनने के कारण नीचे निम्न है:

1. खाने के साथ हवा निगलना : जब आप खाना खाते है तब भोजन के साथ हवा भी चले जाता है, च्युइंग गम खाने से, कैण्डी चूसते रहने से भी बहुत सी मात्रा में हवा पेट मे चले जाती है. Strow से juice पाइन से भी हवा निगल लिया जाता है.

2. डेयरी उत्पाद का सेवन : डेयरी उत्पाद जैसे दूध, दही, पनीर में lactose होता है जिसे पाचन तंत्र पचा नहीं सकती (जब पाचन शक्ति खराब हो) तब गैस बनती है.

3. uncontrolled alcohol drinking : मतलब अत्यधिक शराब के सेवन से पेट मे गैस की समस्या उत्पन्न होने लगती है.

4. Spicy food : अत्यधिक चटपटा या मसालेदार भोजन का सेवन गैस की समस्या देती है.

5. Junk food : जंक फूड जैसे पिज़्ज़ा, बर्गर, चाउमिन इत्यादि भी इसका कारण है.

6. पानी कम पीना : पानी भी भोजन पचाने में मदद करती है, पेट मे पानी की कमी होने पर एसिड की लेवल बढ़ जाती है जिससे गैस बनने चालू हो जाता है.

7. भोजन चबा चबा कर ना खाना : भोजन चबा चबा कर ना खाना या कम चबाना भी एक कारण है क्योंकि इससे पाचन तंत्र को दुगनी मेहनत करनी पड़ती है.

8. टाइट कमर वाले पैंट पहनना : टाइट पैंट पहनना जिससे काम और पेट भी दब जाए भी gastric problem का कारण है.

9. Yoga or excersice न करना,

10. पेट के अन्य रोग,

11. सुबह सुबह खाली पेट रहना (नाश्ता न करना)

12. मानसिक तनाव भी कारण हो सकता है,

13. अत्यधिक मांस खाना (मांस को पचाने में पाचन तंत्र को ज्यादा कार्य करना पड़ता है).

पेट मे गैस बनने पर होने वाले लक्षण (symptoms of gastric problem in hindi)

1. पेट मे सूजन (bloating of the stomach),
2. सांस में थोड़ी problem आना,
3. बदहजमी (indigestion),
4. सीने में तेज जलन होना (chest burn),
5. खट्टी डकार आना (belching),
6. सांसो में बदबू आना (bad smell in breath),
7. भूख में कमी आ जाना (loss of appetite),
8. हिचकी (hiccup),
9. पेट या सीने में दर्द (abdominal or chest pain).

  • Aloe vera के 10 आश्चर्यजनक फायदे
  • अंडरआर्म का कालापन दूर करने के लिए घरेलू उपाय
  • सेक्स पावर बढ़ाने के घरेलू उपाय

    पेट में गैस बनाने वाले खाद्य पदार्थ :

    कुछ फल और सब्जियां ऐसी है कि पेट ने गैस उत्पन्न करती है जैसे
    दुध व अन्य डेयरी उत्पाद,
    गोभी (खासकर पत्ता गोभी/बंदगोभी) (Cabbage),
    मूली (Radish),
    सेम (bean),
    मसूर,
    मकई, पास्ता, आलू और स्टार्च में भरपूर खाद्य पदार्थ,
    सॉफ्ट ड्रिंक,
    बाहरी खाने,
    तली-भुनी चीजे (Roasted food),
    जंक फूड (junk food),
    मसालेदार भोजन (spicy food).

    गैस की समस्या दूर करने के घरेलू उपाय (home remedy for gastick problem in hindi)

    Food is medicine मतलब आहार ही दवाई है. बहुत सी ऐसी( बीमारियां है जिसके लिए डॉक्टर के पास जाने की ज़रूरत नही पड़ती या कोई दवाई नही लेनी पड़ती जिसमे से गैस की समस्या भी एक है, इसके लिए किसी pharmacy store में जाकर दवाई लेने की ज़रूरत नही पड़ती बल्कि घर के ही कुछ गुणकारी खाद्य पदार्थ का उपयोग कर इसको दूर किया जा सकता है जैसे :

    1. ज्यादा से ज्यादा पानी पिये : (water for acidity in hindi)

    gastric problem symptoms and solutions

    एसिडिटी का सबसे अच्छा इलाज है पानी पीना. अत्यधिक से अत्यधिक पानी पीना बहुत से problems का solution है जैसे स्किन और पेट के रोगों के लिए पानी दवाई की तरह काम करती है. अत्यधिक पानी पीने से बढ़े हुए acid (HCl) का लेवल कम हो जाता है.
    > एसिडिटी होने पर पानी पियें.
    > पानी गुनगुना हो तो और भी अच्छा है.
    > निम्बू बहुत से फायदे है तो पानी मे निम्बू और नमक मिलाकर पिये.

    2. एसिडिटी के इलाज में सौंफ का उपयोग (fennel for acidity treatment in hindi) :

    1/2 चम्मच सौंफ ले.
    एक गिलास गर्म पानी

    गरम पानी मे सौफ को डालकर 10-15 मिनट के लिए रखे.
    भीग जाने पर सौंफ को निकालकर अच्छे से चबा चबा कर खाएं.
    एक दिन में 2 से 3 बार खाये Acidity और खट्टी डकार से राहत मिलेगी.

    3. बेकिंग सोडा से gastick problem का उपचार (baking soda for gastick problem) :

    1 चम्मच बेकिंग सोडा ले.
    गुनगुने पानी मे मिलाकर अच्छे से mix कर घोल तैयार कर ले.
    अब इस घोल को खाली पेट (खाना खाने से 1 घंटे पहले) पिये.
    खाना खाने के एक घंटे बाद भी पी सकते है.
    Regular सेवन से गैस्टिक प्रॉब्लम दूर हो जाएगी.

    4. नींबू पानी (lemon water) :

    गर्म पानी मे एक ताजा नींबू का रस निचोडकर नींबू पानी बना ले और पानी के ठंडा होने से पहले ही पी ले. स्वादनुसार नमक डाल सकते है. यह पानी पाचन शक्ति को मजबूत बनाती है साथ ही खट्टे डकार से भी राहत देती है. इस निम्बू पानी का सेवन दिन में 2 से 3 बार करे.

    how to control gastric problems

  • क्यों जरूरी है vitamin B12? विटामिन B12 की कमी, उपयोग, स्त्रोत की जानकारी :
  • high blood pressure क्या है, कारण, लक्षण और bp कम करने के आयुर्वेदिक उपचार
  • नेत्रदान कैसे करे? कौन कर सकता है नेत्रदान पूरी जानकारी हिंदी में

    5. अदरक के सेवन करें (ginger for acidic problem) :

    एक छोटी सी अदरक लेकर अच्छे से कुचल ले, कुचले हुए अदरक को पानी मे डालकर उबाल लें ताकि उसमे मौजूद गुण निकल कर water में मिल जाये. अब इस पानी को गुनगुना कर पिये.

    आप चाहे तो खाना खाने के बाद अदरक का एक छोटा सा टुकड़ा लेकर चबा सकते है. अदरक में पाचन शक्ति मजबूत बनाने वाली गुण पाई जाती है. एक छोटे से टुकड़े का रोज़ाना सेवन एक अच्छी पाचन शक्ति दे सकती है.

    तो आपने ऊपर Gastric problem and solution tips in hinid (पेट की गैस दूर करने के घरेलू उपाय) बारे में पढ़ा, आने वाले लेख में हम और ऐसे ही 25 अन्य टिप्स लाएंगे, आगे आने वाली लेख के updates पाने के लिए ईमेल पर सब्सक्राइब कर ले या हमारा फेसबुक पेज लाइक कर ले ताकि नोटिफिकेशन आप तक पहुच जाए. साथ ही पोस्ट को फेसबुक व्हाट्सएप्प में शेयर करना ना भूले. धन्यवाद.

    Leave a Comment