high blood pressure क्या है, कारण, लक्षण और bp कम करने के आयुर्वेदिक उपचार :

Read this post in English : What is hypertension? Its types, causes, symptoms, and treatments.

उच्च रक्तचाप या high blood pressure जिसे hypertension भी कहा जाता है एक खतरनाक बीमारी है जिसमे blood का प्रेशर अचानक बढ़ जाता है जिससे दिल मे होने वाली कई बीमारियां जन्म लेने लगती है. high blood pressure एक भड़की हुई ज्वालामुखी की तरह है जो किसी भी समय उठ सकती है और मौत का कारण बन जाता है. हाइपरटेंशन से Congestive heart failure, हार्ट अटैक (heart attack), Ischemic heart disease, Antheothrombotic stroke, and अचानक मृत्यु आदि जैसी स्थिति हो सकती है. अगर आप जानना चाहते है कि ब्लड प्रेशर के कारण और उपचार क्या क्या है तो इस आर्टिकल को पूरा पढें..

high blood pressure क्या है, कारण, लक्षण और bp कम करने के आयुर्वेदिक उपचार

hypertension या हाई ब्लड प्रेशर क्या है.

रक्त वाहिनियों (धमनियों तथा शिराओं) पर पड़ने वाले खून के दबाव को ब्लड प्रेशर कहते हैं, ब्लड प्रेशर का अचानक से बढ़ जाना hypertension या हाई ब्लड प्रेशर कहलाता है इसे साइलेंट किलर भी कहा जाता है क्योंकि यह बिना कोई लक्षण दिखाये ही अचानक से उठता है और अचानक मृत्यु (sudden death) का कारण बन जाता है. आज के modern time में बहुत बड़ी समस्या हो गयी है. World health organization (WHO) की रिपोर्ट के अनुसार 1/3 पुरुष और 2/5 महिलाएं इस समस्या से जूझ रहे है.WHO के अनुसार सिस्टोलिक प्रेशर 100-120 mmgh और डाईस्टोलिक प्रेशर 70-80 है.
120/80 से ज्यादा का प्रेशर हाई ब्लड प्रेशर में आने लगता है तो 140/95 mmgh खतरनाक हो सकता है.

blood pressure range कितना होना चाहिए?

blood pressure range को 6 केटेगरी में बांटा गया है जो निम्न है :
1. Hypotension
Systolic = 90 or less
Diastolic = 60 or less

2. Medium
Systolic = 90-119
Diastolic = 61-79

3. Pre-hypertension
Systolic = 120-139

Diastolic = 80-89

4. Hypertension stage I
Systolic = 140-159
Diastolic = 90-99

5. Hypertension Stage 2
Systolic = 160 or more
Diastolic = 100 or more

6. Isolated systolic hypertension : High systolic pressure only.

Blood pressure chart

Blood pressure range

  • Aloe vera के 10 आश्चर्यजनक फायदे
  • अंडरआर्म का कालापन दूर करने के लिए घरेलू उपाय

    ब्लड प्रेशर बढ़ने का कारण : causes of high bp?

    ब्लड प्रेशर बढ़ने का कारण जानने से पहले इसके types के बारे में जानते है.
    हाई बीपी 2 प्रकार का होता है

    1. प्राइमरी हाइपरटेंशन (Primary or essential hypertension.)
    2. सेकेंडरी हाइपरटेंशन (Secondary hypertension)

    प्राइमरी हाइपरटेंशन का कारण अभी तक अनजान है इसका पता अभी तक नही चल पाया है लेकिन 90% हाई बीपी के केस में प्राइमरी हाइपरटेंशन ही होता है.
    सेकेंडरी हाइपरटेंशन का पता लगाया जा चुका है तो इसका इलाज भी मौजूद है पर 10% मरीज ही इस टाइप के bp से ग्रसित होता है.

    प्राइमरी ब्लड प्रेशर बढ़ने का का मुख्य कारण अभी तक unknown है पर कुछ diseases नीचे दिया गया है जिससे रक्तचाप बढ़ने का अंदाजा लगाया जा सकता है.

    1. Acute or chronic Renal disease –

    -A. Renoparenchymal disease,
    -B. Renovascular disease,

    2. Coarctation of the aorta,
    3. Primary aldosteronism,
    4. Cushing’s syndrome,
    5. Pheochromocytoma,
    6. Latrogenic hypertension,
    7. Renal artery stenosis

    सेकेंडरी हाइपरटेंशन का कारण:
    1. अनुवांशिक (genetics)
    2. मोटापा
    3. सिगरेट स्मोकिंग
    4. ज्यादा नमक का सेवन
    5. Hyperlipdaemia
    6. Serum renin levels का बढ़ना

    हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण (symptoms of high blood pressure)

    No Symptoms : most of cases में मरीज को इसके बारे में पता नही चलता, किसी कारणवश (अन्य बीमारियों के लिए) डॉक्टर के पास जाने के बाद ही खुलासा होता है. तो इसका लक्षण दिखाई नहीं देता.

    Non-specific Symptoms : इसमे कुछ कुछ लक्षण दिखाई तो देता है पर पूरी तरह से निश्चित नहीं होता कि यह bp के कारण ही है जैसे:
    1. सिर दर्द
    2. Tinnitus (कानो में सिटी की आवाज सुनाई देना)
    3. सुबह का सिर दर्द
    4. थकान
    5. Papilloedema
    6. चक्कर आना

    ये कुछ लक्षण है जिसे पूरी तरह से confirm नही होता कि की यह bp के कारण है, सिर दर्द, थकान, चक्कर आना कई अन्य कारणों से हो सकता है.

  • What are vitamins? Uses, benefits, source and disease in deficiency of vitamins
  • डार्क सर्कल्स हटाने के उपाय : aankho ke kale ghere hatane ke gharelu upay in hindi

    ब्लड प्रेशर को कम करने के उपाय : high blood pressure treatment in hindi

    high blood pressure को 2 तरीको से कंट्रोल किया जा सकता है जिसमे पहला है नैचुरली तरीका या घरेलू उपाय जिसमे excersice, योगा, खानपान में ध्यान रखना आदि शामिल हैं, और दूसरा है टेबलेट और मेडिसिन लेकर जिसे डॉक्टर पेशेंट को देते है.

    नैचुरली तरीका :

    1. तेज़ गति से चले : हर रोज़ तेज़ गति से चलना ब्लड प्रेशर को कम रखने में काफी मदद करता है. तेज़ चलने से हमारा दिल ऑक्सिजन का सही से इस्तेमाल कर पाता है. इससे रक्त संचार में बाधा नही आती. morning में चलना और भी फायदेमंद साबित हो सकता है. week में पांच दिन काडियो व्यायाम करना बेहतर होता है.

    2. गहरी सांस ले : कम से कम 5 मिनट सुबह और रात में धीमे सांस ले, सांस लेते समय पेट बाहर की ओर फुलाएं. योग व ध्यान क्रियाये शरीर में तनाव उत्पन्न करने वाले हार्मोन को नियंत्रित रखने में मदद करती है

    3. उच्च कैल्शियम और पोटैशियम वाली डाइट लें : अपने खानपान में ताजे फल और सब्जियों को शामिल करें कम वसा वाला आहार ले,
    कैल्शियम और पोटेशियम युक्त चीजों का सेवन हाइपरटेंशन को नियंत्रित रखता है इसमें शकरकंद, टमाटर, संतरे का रस, केला, राजमा, मटर, शहद और सूखे मेवे व किशमिश शामिल है.

    4. नमक सावधानी से : आमतौर पर देखने को मिलता है कि हाई ब्लड प्रेशर वाले लोग सोडियम यानी नमक के प्रति संवेदनशील होते हैं पर यह जानने की बजाय कि व्यक्ति नमक के प्रति संवेदनशील है या नहीं हर पीड़ित को नमक की मात्रा का सीमित उपयोग करना चाहिए दिन भर में 5 ग्राम से अधिक नमक का सेवन ना करें.

    5. डार्क चॉकलेट खाएं : डार्क चॉकलेट में फ्लेवनोल्स होते हैं जिससे रक्त शिराएं लचीली होती है एक अध्ययन में 18% मरीजों के मरीजों डार्क चॉकलेट खाने का फायदा देखने को मिला है.

    ब्लड प्रेशर कम करने के घरेलू उपाय

    6. काफी नहीं हर्बल टी : अधिक मात्रा में कॉफी जैसे कैफीन युक्त पदार्थों का सेवन ब्लड प्रेशर को बढ़ाता है सामान्य चाय की जगह हर्बल चाय का सेवन करें.

    7. वजन कम करे : अपना वजन और ऊँचाई BMI calculator से चेक करें. overweight या obese रिजल्ट दिखाने पर वजन कम करें.

    8. अल्कोहल की मात्रा लिमिट में सेवन करें

    9. स्मोकिंग छोड़ दे.

    Blood pressure treatment in hindi

    टेबलेट और मेडिसिन्स से :

    डॉक्टर bp की मात्रा और कारण जान कर ही टेबलेट देते है जैसे,
    captopril,
    enalapril,
    Remopril,
    Verapamil,
    Diltiazem,
    Hydrochlorothiazide
    Chlorthalidone
    Indapamide इत्यादि की टेबलेट या इंजेक्शन high blood pressure कम करने में काम आता है. पर कोई भी टेबलेट लेने से पहले डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे.

    high blood pressure क्या है, कारण, लक्षण और bp कम करने के आयुर्वेदिक उपचार यह पोस्ट पसन्द आई हो तो फ़ेसबुक व्हाट्सएप्प में ज़रूर शेयर करे.

  • Leave a Comment