कलौंजी के फायदे और नुकसान – black seed & oil benefits and side effects in hindi :

निगेला सतीवा (Nigella sativa), जिसे कलौंजी, cumin seed या काला जीरा के नाम से भी जाता है, दक्षिण और दक्षिण-पश्चिम एशिया में पाया जाता है. इसका उपयोग भारत, बांग्लादेश, पाकिस्तान जैसे कुछ देश में मसलों की तरह उपयोग करते है, किन्तु भारतीय आयुर्वेद में कलौंजी को वरदान माना गया हैं. इस्लामी नबी मोहम्मद के अनुसार कलौंजी मौत को छोड़कर हर रोगों की दवा है. आज के इस पोस्ट में हम कलौंजी के फायदे और नुकसान के बारे में जानेंगे

कलौंजी के फायदे और नुकसान – black seed & oil benefits and side effects in hindi



Nigella sativa 12 इंच (30cm) का पौधा होता है जिसके फल का बीज मसालों और आयुर्वेदिक दवाओं के रूप में किया जाता है. पिछले 2000 सालो से इसे प्राकृतिक चिकित्सा के रूप में करते आ रहे है.

कलौंजी में कई प्रकार के minirols पाया जाता है जिसके कारण यह बहुत फायदेमंद है. कलौंजी के फायदे यही है कि इसमें आयरन, सोडियम, कैल्शियम, पोटैशियम और फाइबर जैसे बहुत सारे मिनरल्स और न्यूट्रिएंट्स से भरपूर है. लगभग 15 Amino Acid वाला कलौंजी शरीर के लिए आवश्यक प्रोटीन की कमी भी पूरी करता है.
इसमें मुख्यतः 3 type के chemical पाया जाता है थॉमोक्विनोन (thymoquinone, TQ), थिइमोहिड्रोक्विनोन (thymohydroquinone, THQ) और थेयमोल(thymol)

पहले इन केमिकल्स के फायदे देखते है फिर बाद में कलौंजी बीज के फायदे देखेंगे.

1. थयमोक्विनोन (thymoquinone, TQ) : यह एक active ingredient है. 1960 में रिसर्च से पता चला है की इसमें antioxidant, anti-inflammatory और anticancer जैसे गुण है जो डायबिटीज, अस्थमा, एलर्जी और कैंसर जैसे रोगों के इलाज में बहुत लाभप्रद है.

2. थयमोहाईड्रोक्विनोन (thymohydroquinone, THQ) : थयमोहाईड्रोक्विनोन एक प्राकृतिक एसीटाइलकोलिन इन्हीबिटर (Acetylcholine inhibitor) है जो एंजाइम एक्टिविटी (enzyme activity) को रोक देता है जिससे दिमाग मे neurotransmitter acetylecholine ज्यादा मात्रा और ज्यादा देर तक एक्टिव बना रहता है. यह पागलपन की बीमारियों को ठीक कर में काम आता है.

3. थायमोल (thymol) : यह भी मेडिकल perpose के लिए use किया जाता है.

कलौंजी के फायदे – black seed and oil benefits in hindi :


कलौंजी के फायदे बालों के लिए

1. कलौंजी के फायदे बालों के लिए (black seed for hair) :

दुनिया मे लोग सबसे ज्यादा बालो के रोगों से ही परेशान है. बालो का झड़ना, डेंड्रफ etc आम गई है, इसके कई कारण हो सकते है पर इन सब problems में कलौंजी का बहुत उपयोग है.
कलौंजी को जला कर हेयर ऑइल में मिलाकर नियमित रूप से सिर पर लगाएं इससे गंजापन दूर होगा और नए बाल उगना चालू हो जाएगा.

  • कलौंजी के तेल को भी हेयर आयल में मिला कर लगा सकते है.
  • Antioxidant और antibacterial गुण के कारण डेंड्रफ और स्कैल्प भी दूर होते है.

2. कलौंजी तेल के फायदे स्किन के लिए (black seed oil for skin problems) :

ईरानी रिसर्चर के अनुसार कलौंजी में skin care के भी गुण है, इसमें Betamethasone पाया जाता है तो स्किन प्रॉब्लम जैसे दाद, खाज, खुजली, हाथ या चेहरे में सूजन, जल्दी चोट लग जाना, मांशपेशियों में कमजोरी, झाइयां, चमड़ी का रंग बदल जाना आदि समस्याओं पर बहुत लाभदायक है.

  • इसके अलावा गर्दन, चेहरे, ब्रैस्ट, आदि में जमे extra फैट को कम करता है.
  • सोरियासिस होने पर इसका तेल लगाने से ठीक होता है.

3. उच्च रक्तचाप (high blood pressure) :

high blood pressure मतलब उच्च रक्तचाप जो एक बहुत खरतनाक बीमारी है उसमें भी कलौंजी तेल के फायदे है. हाई बीपी को कम करने में यह बहुत सहायक है.

  • 0.5–2 grams कलौंजी पाउडर 12 हफ़्तों तक रोज सेवन करें.
    या

  • 100–200 mg कलौंजी का तेल 8 हफ़्तों तक दिन में 2 बार use करें/पियें
  • सेक्स पावर बढ़ाने के घरेलू उपाय
  • क्यों जरूरी है vitamin B12? विटामिन B12 की कमी, उपयोग, स्त्रोत की जानकारी :
  • नेत्रदान कैसे करे? कौन कर सकता है नेत्रदान पूरी जानकारी हिंदी में

    4. कलौंजी का फायदा सिरदर्द के लिए (black seed for Headache) :

    सिरदर्द सभी लोगो मे एक आम समस्या है लोग जिसका कभी न कभी शिकार होते ही है, पर इसको दूर करने के लिए पेनकिलर (painkiller) का use करते हैं.लेकिन यह पेनकिलर शरीर के लिए काफी नुकसानदायक होती हैं.

    लेकिन कलौंजी का तेल सिरदर्द के लिए एक बढ़िया उपाय है जो शरीर को बिना नुकसान पहुंचाए सिरदर्द से तुरंत राहत देता है. सिर दर्द होने पर सिर में कलौंजी के तेल को लगाकर मसाज कर सकते हैं या फिर इसकी 1/2 चम्मच दिन में 2 बार पी सकते हैं.

    5. कलौंजी और शहद के फायदे (black seed and honey benefits in hindi) :

    कलौंजी के फायदे तो है ही कलौंजी और शहद के फायदे भी बहुत है. जैसे :

    कलौंजी और शहद जे फायदे

    • 1. पिसी हुई कलौंजी को एक चम्मच शहद में मिलाकर चाटने से आपका मलेरिया का बुखार ठीक हो जाता है.
    • 2. पेट मे कीड़े, कृमि हो गया हो तो 10 ग्राम कलौंजी के बीज लें इसमें 3 चम्मच शहद के साथ मिलाकर पिएं. करीब एक हफ़्तों तक रोज़ाना रात में सोते समय इस्तेमाल करें. इससे पेट के कीडे़ और कृमि पूरी तरह से नष्ट हो जाएंगे.
    • 3. कुछ लोगों में स्वप्नदोष अर्थात रात को नींद में वीर्य निकलने की समस्या होती है. वैसे तो यह नैचुरली है लेकिन अगर ज्यादा हो हो तो एक कप सेब का रस लें, उसमे 1/2 चम्मच शहद और 1/2 चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर दिन में 2 बार सेवन करने इससे स्वप्नदोष दूर हो जायेगा.

    • 4. हिचकियाँ बहुत आ रही हो तो 1 ग्राम पिसी कलौंजी को शहद में मिलाकर चाटने से हिचकी आनी बंद हो जाती है
    • 5. पथरी होने पर 250gm कलौंजी बीजों को पीसकर 125gm शहद के साथ मिला लें और फिर इसमें आप आधा कप पानी और आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिला लें इसे दिन में 2 बार खाली पेट सेवन करें. 3 हफ़्तों तक पीने से पथरी गलकर पेशाब के साथ बाहर निकल जाती है.

    6. कलौंजी बीज लिवर के लिए (black seed for kidney in hindi) :

    लीवर शरीर में सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक है. लगभग हर विषाक्त पदार्थ यकृत के माध्यम से संसाधित हो जाता है. जिस लोगो की किडनी दवाओं के साइड इफेक्ट्स या अधिक शराब सेवन के कारण कमजोर हो जाता है, या किडनी का काम धीमा हो जाता है उनके लिए कलौंजी बहुत फायदेमंद है.

    हाल ही में हुए animal model study में साबित हुआ है कि कलौंजी का बीज और तेल किडनी समस्या को कम कर सकती है.

    7. कलौंजी का उपयोग प्रसव के बाद :

    कलौंजी का उपयोग प्रसव के समय

    प्रसव (delivery) के बाद, शारीरिक और मानसिक कमजोरी, सुस्ती, थकावट और खून बहने की समस्या आती है, प्रसव के बाद के संक्रमण भी फैलने लगता है तो आंतरिक प्रणाली को मजबूत बनाने और कमजोरी, सुस्ती, थकावट को दूर करने के लिए भी कलौंजी दिया जाता है.
    कलौंजी का काढ़ा बनाकर 15ml रोज सुबह 8-10 दिनों के लिए देना चाहिए.
    खीरे के रस में कलौंजी का तेल और शहद मिलाकर सेवन करना चाहिए.

    8. सर्दी जुकाम में कलौंजी का उपयोग (cumin for cold and cough in hindi) :

    लोगो सर्दी जुकाम एक आम बात है थोड़े से मौसम में बदलाव आते ही सर्दी जुकाम पकड़ लेता है. कलौंजी का उपयोग सर्दी जुकाम, पुराना जुकाम आदि पर कर सकते है.

    कलौंजी को भूनकर, कपड़े में लपेटकर सूंघे, सर्दी ठीक हो जाएगा.
    जैतून का तेल और कलौंजी का तेल मिलाकर नाक में टपकाए.

    कलौंजी के नुकसान (side effects of cumin / black seed)


    कलौंजी तेल और बीज के नुकसान

    1. कुछ लोगो को कलौंजी से एलर्जी होती है उन्हें इसे उपयोग नही करना चाहिए.
    2. कलौंजी खाने से कभी कभी स्किन रैशेस की प्रॉब्लम आ सकती है.
    3. कलौंजी खाने से पेट दर्द, उल्टी, कब्ज आदि की समस्या आ सकती है.
    4. पित्त दोष, जो गर्मी सहन नही कर पाते उन्हें इसका उपयोग नही करना चाहिए.
    5. गर्भावस्था के दौरान इसका उपयोग नही करना चाहिए, या डॉक्टर के परामर्श से ही उपयोग करें.
    6. स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इसका उपयोग सीमित मात्रा में करना चाहिए.
    7. जिनका ब्लड प्रेशर कम हो उसे इसका उपयोग नही करना चाहिए.
    8. कलौंजी सप्पलीमेंट से खून जमने लगता है, इसका सप्पलीमेंट उपयोग करने से पहले डॉक्टर से संपर्क करें.

    तो पाठको ऊपर आपने पढ़ा कलौंजी के फायदे और नुकसान – black seed & oil benefits and side effects in hindi आशा है आपको अच्छी लगी होगी.
    आगे आने वाली लेख के updates पाने के लिए ईमेल पर सब्सक्राइब कर ले या हमारा फेसबुक पेज लाइक कर ले ताकि नोटिफिकेशन आप तक पहुच जाए. साथ ही पोस्ट को फेसबुक व्हाट्सएप्प में शेयर करना ना भूले. धन्यवाद.

    इनके भी फायदे नुकसान पढ़े :

    नींबू | Aloe vera | Rooh afza | मुल्तानी मिट्टी | ब्लैक बीन | अलसी | अश्वगंधा

  • Leave a Comment