UTI full form – यूटीआई का फुल फॉर्म कारण, लक्षण, उपचार

UTI full form – यूटीआई का फुल फॉर्म कारण, लक्षण, उपचार :
मूत्रमार्ग में होने वाली इंफेक्शन को UTI कहा जाता है जो बैक्टीरिया के कारण होता है, बैक्टीरिया इतने छोटे होते है कि साधारण आंखों से देखना मुश्किल होता है और हमेशा सूक्ष्मदर्शी की सहायता से देखा जाता है. लगभग सभी तरह की UTI बैक्टीरिया से होता है साथ ही कुछ वायरल और फंगल भी होता है.

[adinserter block=”2″]

UTI full form, UTI का कारण, लक्षण और उपचार के बारे में जानना चाहते है तो इस पोस्ट को पूरा पढें.

UTI full form – यूटीआई का फुल फॉर्म कारण, लक्षण, उपचार


UTI क्या होता है ? What is UTI

UTI का फुल फॉर्म Urinary Tract Infection होता है यानी मूत्रमार्ग में होने वाली इंफेक्शन. मूत्र मार्ग यानी Urinary Tract किडनी, मूत्रवाहिनी, मूत्राशय और मूत्रमार्ग से मिलकर बना होता है और UTI इन अंगों में कही भी हो सकता है.

Uti full form

UTI लगभग 150 मिलियन लोग मूत्रपथ संक्रमण से ग्रसित है और यह पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक आम हैं.

[adinserter block=”1″]

UTI के लक्षण (symptoms of UTI)

    1. पेशाब में जलन,
    2. बार बार पेश लगना,
    3. increased urgency of urination,
    4. मूत्र में खून,
    5. मूत्र से धुआं उठना,
    6. मूत्र का अत्यधिक पीलापन,
    7. मूत्र से तेज़ बदबू आने,
    8. महिलाओं में pelvic में दर्द,
    9. पुरुषो के मलाशय में दर्द,
    10. थोड़ी थोड़ी मात्रा में urine निकलना,
    11. पेशाब का रुक रुक के होना,
    12. गुप्त अंगो में खुजली होना,
    13. भूख न लगना.
  • अगर UTIs infection हो तो कुछ लक्षण ये हो सकते है.
      1. थकान,
      2. अत्यधिक ठंड लगना,
      3. उल्टी होना,
      4. जी मचलना,
      5. बुखार,
      6. ऊपरी पीठ और पक्षों में दर्द.

    यूरिन इन्फेक्शन कैसे होता है इसके कारण (causes of urine infection in hindi) :

  • यूरिन इंफेक्शन होने के बहुत से कारण हो सकते है जैसे.
      1. लम्बे समय तक पेशाब रोक के रखना,
      2. किडनी पथरी (kidney stone),
      3. डायबिटीज (diabetes),
      4. सर्जरी या बेड रेस्ट के कारण गतिशीलता में कमी होना,
      5. काम पानी पीना,
      6. तेज़ मिर्च, मसलों के सेवन से,
      7. अत्यधिक शराब पीने से,
      8. दूषित पानी पीने से,

    यूरिन इंफेक्शन का उपचार (treatment and home remedies of UTI)

    UTI का उपचार एंटीबैक्टीरियल दवाओं (antibacterial drugs) से किया जाता है जैसे पेनिसिलिन, टेट्रासाइक्लिन, एंटीबॉयोटिक, सफेलोसपोरीन्स आदि दवाओं से बैक्टीरिया को kill किया जाता है या उसके विकास को रोका जाता है.

    होम रेमेडीज में भी कई तरह की फलों और घरेलू उत्पादों का उपयोग करके इसका इलाज किया जाता हैं. जैसे अत्यधिक पानी पीना, सेब का सिरका आदि का उपयोग किया जाता है. इसके बारे में अत्यधिक जानने के लिए हमारा यह पोस्ट पढ़े : यूरिन इन्फेक्शन क्या है? लक्षण, कारण और आयुर्वेदिक इलाज (urine infection in hindi)

    आपने ऊपर पढ़ा UTI full form (यूटीआई का फुल फॉर्म कारण, लक्षण, उपचार : UTI in hindi). यह पोस्ट आपको जरूर हेल्पफुल लगी होगी,अगर कुछ सवाल हो तो कमेंट करके पूछ सकते है. आगे आने वाली लेख के updates पाने के लिए ईमेल पर सब्सक्राइब कर ले या हमारा फेसबुक पेज लाइक कर ले ताकि नोटिफिकेशन आप तक पहुच जाए. साथ ही पोस्ट को फेसबुक व्हाट्सएप्प में शेयर करना ना भूले. धन्यवाद.

    [adinserter block=”3″]

  • Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *